Computer virus क्या है?

Computer virus नाम तो सुना ही होगा दोस्तों जब हम कंप्यूटर की बात करते हैं तो कंप्यूटर वायरस की बात भी आयी जाती है क्योंकि ये ऐसे प्रोग्राम्स और फाइल्स होती है जो आपके कंप्यूटर या लैपटॉप को हैंग कर देते हैं।

कई बार तो ये आपके इम्पॉर्टेंट डेटा को भी खराब कर देते हैं, जिसकी वजह से आपको बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। तो ऐसे में हमारा ये जानना बहुत ज्यादा जरुरी है कि आखिर ये कंप्यूटर वायरस होते क्या है? इनकी शुरुआत कैसे हुई।

ये कंप्यूटर में कैसे अपने Enter हो जाते हैं और इसे कंप्यूटर में से कैसे Remove किया जा सकता है। तो आज हम बात करेंगे। अगर आप भी अपने कंप्यूटर को वायरस फ्री करना चाहते हो तो इस आर्टिक को पूरा और ज्यादा जरुर पढ़े और बिना किसी देरी के चलना शुरू करते हैं।

virus
Computer viruses

What is virus in Hindi

कंप्यूटर वायरस कुछ ऐप्लिकेशंस फाइल्स और प्रोग्राम्स होते हैं जो बिना आपके परमिशन के आपके सिस्टम में लोड हो जाते हैं और कुछ अनयूजुअल ऐक्टिविटी शुरू कर देते हैं, जिससे आपके फाइल्स करप्ट होने लगते हैं।, सिस्टम हैंग होना शुरू कर देता है और कई बार तो ये आपके कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम को भी करप्ट कर देते हैं। जिससे कि आपके कंप्यूटर की विंडो उड़ जाती है और आपका सारा डेटा लॉस हो जाता है।

वायरस शुरुआत कैसे हुई

रॉबर्ट थॉमस, वह पहले इंजीनियर थे जिन्होंने बीबीएन टेक्नोलॉजीज में काम करते हुए 1971 में पहला कंप्यूटर वायरस विकसित किया था।

जब धीरे धीरे पर्सनल कंप्यूटर फेमस होना शुरू हुए थे और लोगों ने इन्हें अपने घरों में और ऑफिसेज में यूज करना शुरू किया था। तब कंप्यूटर वायरस चालाक हुए थे। जैसा कि आप सब जानते हैं कि आज के टाइम में ज्यादातर वायरस इन्टरनेट के माध्यम से आपके सिस्टम में एंटर होते हैं। लेकिन उस टाइम पर जब इनकी शुरुआत हुई थी तो इंटरनेट इतना पॉपुलर नहीं था तो उस टाइम पे वायरस फ्लॉपी डिस्क के जरिये फैलता था क्योंकि जब कोई फ्लॉपी डिस्क किसी सिस्टम से कनेक्ट होती थी तो फ्लॉपी डिस्क वायरस सिस्टम में Enter कर जाता था और फाइल को करप्ट करना शुरू कर देता था तो इस तरीके से कंप्यूटर वायरस के स्टार्टिंग हुए अब बात करते हैं।

Computer Virus क्या कर सकते हैं?

कंप्यूटर वायरस इन्टरनेट और Pen Drive के माध्यम से Enter का करते हैं क्योंकि जब आप इंटरनेट यूज करते हो या तो कोई वैबसाइट ओपन करते हो तो कई बार कुछ pop up window ओपन हो जाती है और इन्हीं विंडोज में वायरस होता है और वो वायरस हमारे कंप्यूटर Enter हो जाता है और हमें पता भी नहीं चलता।

वैसे तो आज के समय में बहुत सारे कंप्यूटर वायरस हैं जो किसी ना किसी प्रोग्राम या फिर फाइल के साथ अटैच होते हैं और जब आप उस प्रोग्राम या फिर फाइल को यूज करते हो तो वायरस भी ऑटोमेटिकली एग्जिक्यूट होने लगता है। जिसकी वजह से हमारा कंप्यूटर जो फ़ास्ट वर्क करता था, अब वो स्लो करने लगता है।

कंप्यूटर वायरस सबसे पहले कंप्यूटर के वर्चुअल मेमरी पर अटैक करके उसे ब्लॉक कर देता है और कैश फाइल को बढ़ा देता है, जिससे आपका पीसी स्लो हो जाता है और स्लो वर्क करने लगता है।

10 Types of computer viruses

  1. Boot Sector Virus
  2. Direct Action Virus
  3. Overwrite Virus
  4. Spacefiller Virus
  5. Memory Resident Virus
  6. Web Scripting Virus
  7. Browser Hijacker
  8. Resident Virus
  9. Multipartite Virus
  10. Polymorphic Virus
YOU MAY ALSO LIKE

Leave a Comment