What is Insurance in Hindi | Insurance कितने प्रकार का होता है?

आप ने लोगों के मुंह से कई सारी बाते सुनी है। घर का मकान ले लो, फ्लैट ले लो, खाली जमीन ले लो, सोना ले लो, इन्वेस्टमेंट के प्रयोजन से। इसमें कोई शक नहीं आज भी लोग ये सारी बातें बोलते हैं, लेकिन पहले से और अब में एक जो Word है ना वह काफी ज्यादा बोला जाता है कि भाई कुछ करो ना करो। इंश्योरेंस तो पक्के से ले लो।

अब ये insurance क्या है? इसके बारे में आज हम जानेंगे की What is meant by insurance? तो चलिए आप को बताते है की क्या है insurance जिसे हिंदी में बिमा कहा जाता है। लेकिन insurance क्यों करवाना चाहिए?, insurance किस तरीके से काम करता है?, और insurance कितनी प्रकार का होता है। ये सब जानना भी जरूरी है ताकि आप अपनी जरूरत के अकॉर्डिंग सही insurance को चुन सकें।

What is meant by insurance?
What is meant by insurance?

What is meant by insurance?

सबसे पहले insurance का मतलब जानते हैं। insurance लीगल एग्रीमेंट (legal agreement) है. जो कि दो पार्टी के बीच होता है। insurance company और insurance करवाने वाला व्यक्ति है। तो इस Agreement के According जब कोई व्यक्ति insurance company से अपना insurance यानि की बीमा कर आता है तो भविष्य में उस व्यक्ति को होने वाले वित्तीय क्षति (financial loss) की भरपाई बीमा company करती है।

दूसरे शब्दों में काहे तो insurance का मतलब होता है। आने वाले खतरे से सुरक्षा करना यानी अपनी लाइफ और प्रॉपर्टी से जुड़े रिस्क को कवर करने का एक ऑप्शन बीमा होता है।

Insurance काम कैसे करता है?

इंश्योरेंस एग्रीमेंट (insurance agreement) के तहत insurance company के द्वारा बीमित व्यक्ति से निश्चित राशि (fixed amount) लिया जाता है, जिसे प्रीमियम (premium) कहते हैं। प्रीमियम लेने के बाद अगर उसके insured person यानि की बीमित व्यक्ति को किसी भी तरह का नुकसान पहुंचता है तो इंश्योरेंस पॉलिसी के नियम और शर्तें के हिसाब से उसके नुकसान की भरपाई की जाती है।

इसी तरह अगर किसी प्रॉपर्टी जैसे कि घर, कार का इंश्योरेंस करवाया गया हो तो उस चीज के टूटने जैसी सिचुएशन में उस प्रॉपर्टी के ओनर को पहले से डिसाइड की गई कंडीशंस के आधार पर मुआवजा दिया जाता है।

Insurance कितने प्रकार का होता है?

तो अब ये जानना भी जरूरी है कि बीमा कितने तरीके का होता है। कितने प्रकार का होता है तो बीमा मुख्य रूप से दो तरह का होता है। Life insurance और General insurance लेकिन आजकल बीमा के बहुत से प्रकार प्रसिद्ध हो गए हैं। जैसे ट्रैवल इन्श्योरेंस तो चलिए हम इन सभी प्रकार के बारे में जानते हैं।

Life insurance

life insurance इसके नाम से आपको पता चलता है कि बीमा का ही प्रकार बीमित व्यक्ति (insured person) की Life का बीमा करता है। यानी जो व्यक्ति अपना बीमा करवाता है उसकी अचानक डेथ हो जाए तो उसकी फैमिली को कंपनी मुआवजा देती है।

इस life insurance की महत्त्व तब बहुत बढ़ जाती है। जब घर के मुखिया की डेथ हो जाए और परिवार की वित्तीय सुरक्षा (financial security) का खयाल रखने वाला वही हो तो ऐसे में उस व्यक्ति के ना रहने पर उसके परिवार को वित्तीय (financial) सहायता मिलता है, इसलिए life insurance जरूर करवाना चाहिए। ताकि आपके ना होने पर भी आप का परिवार वित्तीय (financial) सिक्योर फील करें।

General insurance

दूसरा आता है General insurance insurance के प्रकार में घर, वाहन, हैल्थ, एनिमल्स insurance ये सभी शामिल होते हैं।

Home insurance

Home insurance की बात करें तो बहुत से लोग अपने घर का बीमा भी करवाते हैं। ऐसा करने से उनका घर सुरक्षित हो जाता है। यानी कि फ्यूचर में अगर उनके घर को किसी तरह का नुकसान पहुंचता है। उसकी भरपाई insurance company से हो जाती है। इस तरह के insurance में आग अर्थक्वेक, बाढ़ जैसी बहुत सी प्राकृतिक आपदाओं से घर को होने वाले नुकसान शामिल होते हैं। इसके अलावा हड़ताल दंगा, चोरी और आतंकवाद जैसी आपदाओं के लिए इन्श्योरेंस सिक्योरिटी (insurance security) दी जाती है।

Health insurance

Health insurance तो आजकल health problems काफी ज्यादा बढ़ गई है या ये कहें कि लोग काफी ज्यादा अवेयर हो गए हैं। इसीलिए हेल्थ पर होने वाला खर्च भी काफी ज्यादा बढ़ चुका है। ऐसे में अगर आप health insurance लेते हैं तो कोई बीमारी होने की सिचुएशन में इलाज का खर्चा इंश्योरेंस कंपनी के द्वारा कवर किया जाता है।

इंश्योरेंस कंपनी के द्वारा ट्रीटमेंट में कितना कवर दिया जाएगा। यह आपके द्वारा ली गई पॉलिसी की उस पर डिपेंड करेगा। यहां ये ध्यान रखना जरूरी है कि हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी का फायदा सिर्फ उन्हीं हॉस्पिटल्स में मिलता है जो कि इस पॉलिसी से जुड़े होते हैं। इसके अलावा आजकल ऐसी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसीज भी है जो आपकी पूरी फैमिली को इन्श्योरेंस सिक्योरिटी दे सकती है। इसीलिए ऐसी पॉलिसी को प्रायरिटी दी है।

Vehicle insurance

Vehicle insurance यानि मोटर या कार इंश्योरेंस तो हमारे देश में व्हीकल का इंश्योरेंस करवाना कंपल्सरी है और ऐसा नहीं करने पर फाइन लगता है। इस इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत आपके व्हीकल यानी की चाहे वो कार हो या तो दो पहिया, तिपहिया हो। उसको होने वाले नुकसान का मुआवजा बीमा कंपनी देती है। अगर आपके व्हीकल से किसी व्यक्ति को चोट लग गई हो या किसी व्यक्ति की अनजाने में डेथ हो गई हो, तो इंश्योरेंस कंपनी के द्वारा ऐसे मामलों को थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के रूप में कवर किया जाता है।

Crop insurance

Crop insurance क्रॉप इंश्योरेंस ऐसे किसान जो कृषि लोन लेते हैं, उनके लिए क्रॉप इंश्योरेंस लेना बहुत जरूरी होता है। इस बीमा में क्रॉप यानि कि फसल को किसी भी कारण से होने वाले नुकसान की भरपाई इन्श्योरेंस कंपनी के द्वारा की जाती है।

Business Liability Insurance

Business Liability Insurance ये इन्श्योरेंस किसी कंपनी के वर्क या उसके किसी Products से कंज्यूमर को होने वाले नुकसान की भरपाई करता है। यानि किसी कंपनी के कामकाज या उसके किसी प्रोडक्ट की वजह से अगर किसी ग्राहक को कोई हानि होती है तो ऐसी सिचुएशन में कंपनी पर लगने वाला जुर्माना और कानूनी कार्यवाही का सारा खर्चा उठाने की जिम्मेदारी उस इंश्योरेंस कंपनी की होती है जो किसी कंपनी का बिजनेस लाइबिलिटी इन्श्योरेंस करती है।

Travel insurance

Travel insurance आजकल ट्रैवल इंश्योरेंस भी काफी चलन में है और ये इन्श्योरेंस ट्रैवलिंग के दौरान होने वाले नुकसान से बचाव करती है। यानी अगर कोई व्यक्ति जिसने अपना ट्रैवल इंश्योरेंस करवा रखा है वो काम के सिलसिले में या घूमने के पर्पस से विदेश जाता है।

और वहां उसे चोट लग जाती है या उसके सामान चोरी जैसी घटनाएं हो जाती है तो इसका मुआवजा इंश्योरेंस कंपनी उस व्यक्ति को देती है। इस पॉलिसी की टाइम लिमिट आपकी जर्नी शुरू होने से लेकर के खत्म होने तक ही होती है। इसके अलावा देश के अंदर की जाने वाली छोटी बड़ी यात्राओं के लिए भी ट्रैवल इंश्योरेंस उपलब्ध होता है।

आजकल तो Applications use करते हैं कैब बुक करने के लिए तो वहां भी आपको insurance का आप्शन दिखता है। जैसे ₹1 या ₹2 में इसी के साथ ही जब आप प्लेन ट्रैवल करते हैं तो भी आपको इंश्योरेंस का आप्शन दिखाई देता है यह आप की इच्छा है की उसे सिलेक्ट करना चाहते हैं या नहीं।

आज आपने क्या सीखा

अब सबको पता चल गया है कि What is meant by insurance?, insurance का  Benefits क्या है? ये long term में आपको कैसे फायदा पहुंचा सकता है। खासकर के उस फ्यूचर में जिसका शायद आपको पता भी नहीं है। तो भगवान न करे ऐसा किसी के साथ ना हो लेकिन फिर भी अगर आप बहुत कन्सर्न है। अपने काम को लेकर अपने घर को लेकर वहां जाना दिमाग में स्ट्रेस रहता है तो बेस्ट चीज है।

आप बीमा लेकर रख दीजिए ताकि आपका स्ट्रेस खत्म हो जाए क्योंकि कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो हमारे हाथ लगी होती हैं और अगर आपको लगता है कि अक्सर लोग ये बोलते रहते हैं और आपके पास जवाब है कि आपको इश्योरेंस लेना है या नहीं। क्योकि इस आर्टिकल में आपको काफी सारी जानकारियां दी हैं तो ये आर्टिकल आप को कैसा लगा? हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइएगा। धन्यवाद।

YOU MAY ALSO LIKE

Leave a Comment