जब जिंदगी में कुछ बड़ा   करने की कोशिश करोगे    तब , ना कोई ध्यान देगा       ना कोई साथ देगा

     अपने PAST को इतना      याद ना करो कि वो  तुम्हारा FUTURE DECIDE           करने लगे

  निंदा से घबराकर लक्ष्य    को मत छोड़े क्योंकि    निंदा करने वालों की     राय लक्ष्य मिलते ही        बदल जाती है

    मासूमियत इतनी भी नही होनी चाहिए की लोग आपके साथ वक्त गुजारे और आप उसे म्होब्बत समझे

 अगर कोई पसंद आ जाए तो   दूसरों से नहीं पूछना     चाहिए वो कैसा है

        जज्बा रखो सच और    झूठ को परखने का   कानों में जहर घोलना   तो जमाने का काम है

आपकी अच्छाइयों,  बेशक अदृश्य हो सकती है लेकिन, इनकी छाप हमेशा दूसरों के हृदय में विराजमान             रहती है

  आपका बीता हुआ कल  "कोई गलती नही होगी"   अगर आप उससे कुछ         सीखते है तो