सिर्फ अपनी नही बल्कि दुसरो की गलतियों से भी सीखो, क्योंकि लक्ष्य बड़ा है और समय कम

  आपके आने वाले "कल"     का "नसीब" आपके बीते हुए "कल" के "कर्मो"      पर निर्भर करता है

   नींद और निंदा पर जो      विजय पा लेते है..  उन्हें आगे बढ़ने से कोई      नहीं रोक सकता..

   किसी की किस्मत अच्छी   बोलने से पहले, एक बार     उसके पीछे की मेहनत        जरूर देख लेना

  तुम अयोग्य या बदसूरत     नहीं हो तुम्हारे पास    सिर्फ पैसे या पद की            कमी है।

    तकलीफ हमेशा उन्हें          बताओ जो   समझने के काबिल हो

  जीत की आदत अच्छी है,     मगर कुछ रिश्तो में     हार जाना बेहतर है

  आपका बीता हुआ कल  "कोई गलती नही होगी"   अगर आप उससे कुछ         सीखते है तो