बसंत पंचमी | बसंत पंचमी कैसे मनाई जाती है?

नमस्कार दोस्तों आज बात करते हैं। बसंत पंचमी की। मां सरस्वती के अवतरण के उपलक्ष्य में बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। श्रृष्टि के प्रारंभिक काल में भगवान विष्णु की आज्ञा से ब्रह्माजी ने मनुष्य योनि की रचना की।

बसंत पंचमी
बसंत पंचमी कैसे मनाई जाती है

बसंत पंचमी

एक बार जब ब्रम्हा जी धरती पर विचरण करने निकले तो उन्होंने मनुष्यों और जीव जंतुओं को देखा तो सभी नीरस और शांत दिखाई दिए। ये ही देख कर उन्हें अपनी संरचनाओं में कमी महसूस हुई। फिर ब्रम्हा जी ने अपने कमण्डल से थोड़ा सा जल छिड़का तो एक महान ज्योति में से एक देवी प्रकट हुई।

जिनके एक हाथ में वीणा एवं दूसरा हाथ वर मुद्रा में था। वहीं अन्य दोनों हाथों में पुस्तक एवं माला की मां सरस्वती ने ब्रम्हा जी को प्रणाम किया। इस प्रकार वह ब्रम्हा जी की पुत्री कहलाई। मां सरस्वती के प्रकट होने पर ब्रम्हा जी ने कहा कि श्रृष्टि में सभी जीव मुख है। ये केवल चल रहे हैं।

आपस में बात करने में ये समर्थ नहीं है। आपको अपनी वीणा के स्वरूप से इस संसार को ध्वनि प्रदान करनी है ताकि ये आपस में बात कर सकें और एक दूसरे को समझ सकें। ब्रम्हा जी की आज्ञा का पालन करते हुए मां सरस्वती ने वीणा का मधुर नाद किया तो संसार के समस्त जीव जन्तुओं को वाणी प्राप्त हो गई।

सभी प्राणी बोलने लगे। नदियां कलकल कर कहने लगी। हवा से भी सन्नाटे को चीरता हुआ संगीत पैदा हुआ। तभी से बुद्धि, विद्या और संगीत की देवी के रूप में मां सरस्वती की पूजा की जाने लगी।

बसंत पंचमी को मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। समस्त संसार को ध्वनि प्रदान करने वाली मां सरस्वती की पूजा देवता और असुर दोनों ही करते हैं। इस दिन लोग अपने अपने घरों में माता की प्रतिमा स्थापित करते हैं।

बसंत पंचमी कैसे मनाई जाती है?

सर्वप्रथम पूजा की चौकी पर पीला कपड़ा बिछाकर मां सरस्वती की प्रतिमा स्थापित करें। इसके बाद देवी का आचमन करके उन्हें स्नान कराएं और सफेद फूल और माला चढ़ाएं। इसके बाद मां को सिंदूर चढ़ाएं और शृंगार की अन्य वस्तुएं भी अर्पित करें।

मां के चरणों में गुलाल लगाएं और उन्हें सफेद या पीले वस्त्र पहनाएं। मां सरस्वती की पूजा करने के बाद उन्हें पीले फल अर्पित करें। कुछ घरों में पीले मीठे चावल बनाकर उनका भोग लगाया जाता है। इसके अलावा शाम के वक्त मां को खीर का भोग लगाएं और आपस में प्रसाद का वितरण करें।

आज आपने क्या सीखा

तो दोस्तों कैसी लगी आपको आज की ये जानकारी ऐसी और इस जानकारियों को अपने दोस्कतों में शेयर करना न भूले। की बसंत पंचमी कैसे मनाई जाती है? और बसंत पंचमी क्या है? धन्यवाद।

YOU MAY ALSO LIKE

Leave a Comment