Application in Hindi | पत्र लेखन

आज के इस ब्लॉग में हम पत्र लेखन (Letter writing), Application in Hindi के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है की किस तरह से पत्र लेखन किसे कहते है ?, पत्र लेखन कितने प्रकार के होते है?, पत्र लेखन के किये किन-किन बातो का ध्यान देना चाहिए? इस तरह से सभी विषयों के बारे में बात करेगे। और Application in Hindi लिखना सीखेगे।

पत्र लेखन

Application in Hindi | पत्र लेखन

आज की संचार-क्रांति के युग में पत्र-लेखन औपचारिकता मात्र रह गया है। फिर भी सूचनाओं तथा विचारों की सशक्त अभिव्यक्ति में पत्रों की महत्वपूर्ण भूमिका है। विश्व की तमाम जानी-मानी हस्तियों के पत्र आज भी धरोहर के रूप में सुरक्षित हैं व लोगों के लिए प्रेरणा-सोत हैं।

प्रमुख्यतः दो प्रकार के होते हैं- 1. औपचारिक पत्र।  2. अनौपचारिक पत्र।

  1. औपचारिक पत्र – औपचारिक पत्र अपरिचित व्यक्तियों या अधिकारियों को लिखे जाते हैं। इनमें व्यक्तिगत बातों का अभाव होता है, केवल संदेश प्रपुख होता है। स्कूल के प्रधानाचार्य, संपादक, अधिकारी आदि को लिखे गए पत्र औपचारिक पत्र होते हैं।

  2. अनौपचारिक पत्र – अनौपचारिक पत्र पारिवारिक व्यक्तियों, मित्रों व संबंधियों को लिखे जाते हैं। इन्हें व्यक्तिगत पत्र भी कहते हैं।

पत्र लेखन समय ध्यान देने योग्य विशेष बातें :-

  1. पत्र की भाषा सरल, सुंदर व बोधगम्य होनी चाहिए।
  2. पत्र का विषय स्पष्ट होना चाहिए। लेखन संक्षिप्त व परस्पर संबद्ध होना चाहिए।
  3. पत्र के अनुरूप संबोधन व अभिवादन लिखा जाना चाहिए।

कुछ औपचारिक व अनौपचारिक पत्रों के नमूने इस प्रकार हैं-

1. स्थानांतरण ग्राणपत्र हेतु प्रधानाचार्य को ग्रा्थना-पत्र-

सेवा में,
अधानाचार्व जौ,
सर्वोदय शिक्षा सदर,
नई दिल्‍ली।
दिलांक : 8 जुलाई, 20…..
विषय : स्थानांतरण प्रधाणपत् हु प्रर्थता-पत्र।

महोदय,
सबिनिव निवेदन है कि मैं आपके विद्यालय में कक्षा आठ का छात्र हूँ। मे पिताजी एक केंद्रीय कर्मचाती हैं। उनका स्थानांतरण मुंबई हो गया है। अगले सप्ताह मेरा परिवार मुंबई स्थानांतरित हो रहा है। इसलिए मुझे भी दिल्ली छोड़कर अपने परिवार के साथ मुंबई जाना होगा। बहाँ के विद्यालव में प्रवेश लेने के लिए मुझे एक स्थानांतरण प्रमाणपत्र की आवस्यकता है।
अतः आप से प्रार्थना है कि मुझे स्थानांदरण प्रपाणपत्र देने की कृपा कों।

धन्यवाद सहित।
आपका आज्ञाकारी शिष्य,
विनय यादव
कक्षा- 8

2. पोस्टमैन की शिकायत करते हुए अपने क्षेत्र के पोस्टमास्टर को पत्र-

सेवा में,
पोस्टमास्टर जी,
उत्तम नगर ईस्ट,
दिल्‍ली।
दिनांक : 8 अगस्त, 20…
विषय : डाक-वितरण में अनियमितता की शिकावता

महोदय,
मै अपने इस पत्र के माध्यम से आपका ध्यान डाक-वितरण में हो रही अनियमितताओं की ओर दिलाना चाहता हैँ। इस क्षेत्र का पोस्टमैन कभी भी समय पर डाक देने नहीं आता। यदि आता भी है तो डाक को इधर-उधर फेंककर चला जाता है।
डाक-वितरण में हो रही इस अनियमितता से स्थानीय नागरिकों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। आपसे अनुरोध है कि जन साधारण को होने वाली इस असुविधा को दूर करने के लिए उचित कारवाई करे।

धन्यवाद सहित।
भवदीय
नीरज कुमार
18/27 उत्तम नगर ईस्ट
दिल्ली।

3. बिजली की अनियमित आपूर्ति के संबंध में हिंदुस्तान टाइम्स के संपादक को पत्र-

सेवा में,
संपादक महोदय,
हिंदुस्तान टाइम्स,
नई दिल्‍ली।
दिवांक : 8 मार्च, 20…….
विषय : बिजली की अनियमित आपूर्ति के संबंध में पत्र

महोदय,
आपके लोकप्रिय समाचार-पत्र के माध्यम से मैं संबंधित अधिकारियों का ध्यान अपने क्षेत्र रोहिणी, सेक्टर-9 में हो
रही बिजली की अनियमित आपूर्ति की ओर दिलाना चाहता हैं। आप जानते हैं कि इस समय वार्षिक परीक्षाएँ चल
रही हैं। सभी छात्र इन परीक्षाओं में अधिकतम अंक लाने के लिए दिन-रात पढ़ाई में लगे रहते हैं।

बिजली विभाग वाले शायद हमारी स्थिति से अनभिज्ञ हैं, इसलिए जब चाहे बिजली की आपूर्ति बंद कर देते हैं।
बिना बिजली के पढ़ना अत्वंत कठिन है। गर्मी के कारण बुरा हाल हो जाता है। संबंधित अधिकारियों से अनुरोध है कि इस संबंध में उचित कदम उठाएँ व छात्र-हित में बिजली की सप्लाई नियमित कों।

भवदीय
अविनाश
रोहिणी, सेक्टर-9

All in one Application in Hindi

आज आपने क्या सीखा

इस ब्लॉग में हमने जाना की Application in Hindi किस तरह से लिखा जाता है और आप को किन किन बातो का ध्यान देना चाहिए।

YOU MAY ALSO LIKE

Leave a Comment